≡ Menu

मोदी सरकार पे गिरी एक और गाज, माल्या-नीरव के अलावा भी हज़ारों करोड़पति छोड़ चुके है देश

देश की बागडोर सम्भाले बीजेपी के पास अब एक नयी मुसीबत आन पड़ी है जो सीधे देश की आर्थिक व्यवस्था से जुडी हुई है| देश से अमीर लोगो का पलायन अब एक नयी समस्या बनने जा रहा है जिसका कारण है टैक्स| टैक्स के भारी बोझ के कारन देश के करोड़पति लोग अपना ठिकाना विदेशो में ढूंढ रहे है जहा उन्हें कम टैक्स देना पड़े|source

देश से करोड़पतियों के पलायन से आर्थिक व्यवस्था में दिक्कत आ सकती है क्योकि जितना विदेशी निवेश इस देश के लिए जरूरी है उतना ही स्वदेशी भी| हालाँकि इसमें सरकार की नीतिया भी जिम्मेदार हो सकती है|

23 हजार करोडपति छोड़ चुके है भारतsource

पिछले दिनों मीडिया हाउस द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसमे मॉर्गन स्टैनली ने रचिर शर्मा से कहा था की 2014 से लेकर अब तक 23 हजार करोडपति भारत देश छोड़कर जा चुके है जो की चिंता का विषय है| केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने अमीर तबके पर पड रहे टैक्स के बोझ को समझने के लिए 5 सदस्यों की टीम बनाई है जिसकी बैठक शुक्रवार को होगी|source

अमीर लोगो का देश छोड़ कर जाने से एक और समस्या पैदा हो रही है और वो ये की देश का अधिकतर पैसा बाहर जा रहा है| इसके लिए मोदी की आर्थिक नीतिया भी जिम्मेदार हो सकती है| जागरण ने अपने ऑनलाइन पोर्टल में लिखा है कि,

“सीबीडीटी की बैठक में वे कारण खंगाले जाएंगे, जिनके चलते करोड़पतियों को देश छोड़ना पड़ रहा है। इसके बाद इनके निराकरण के रास्ते निकाले जाएंगे।”

source

हालांकि अमीर तबके का ऐसे देशों का रुख करना, जहां टैक्स या तो लगता ही नहीं या फिर बहुत कम लगता है (टैक्स हैवेन) कोई नई बात नहीं है। लेकिन, पिछले कुछ वर्षों से यह चलन जोर पकड़ने लगा है। इससे देश का बहुत सारा पैसा बाहर जा रहा है, जिसे सरकार रोकना चाहती है। क्या ये भी मोदी सरकार की विफलता मानी जाएगी?

नोट: क्या करोडपतियो के देश छोड़ने की जिम्मेदार मोदी सरकार की आर्थिक नीतिया है? हमे अपनी राय नीचे कमेंट कर जरुर बताए और इस खबर को ज्यादा से ज्यादा शेयर भी करे.

Related Posts

{ 1 comment… add one }
  • Jyotiranjan nayak April 14, 2018, 4:17 pm

    no yeh modi sarkar ki nitiyon ka fal nahi hai. Ye to pichle 70 saal ka kachra saaf ho raha hai. Bideshi ka bachha kabhi v janmabhumi se pyar nahi kar sakta. Yehi hai. After 70years Bharat mein ek sher aya hai. Usko gandagi mein mat dalo.

Leave a Comment