≡ Menu

ADR की रिपोर्ट से खुलासा- मोदी राज में लोगों के भले नही आये लेकिन पार्टी के आ गये अच्छे दिन

क्या बीजेपी की सरकार जनता के पैसे से अपनी जेबे भर रही है? सीधे तौर पर तो कुछ कह नही सकते लेकिन एडीआर की रिपोर्ट देखे तो कुछ ऐसा ही प्रतीत होता है| हाल ही में असोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स की रिपोर्ट सबके सामने आई जिसमे सभी राजनीतिक पार्टियों की आमदनी का लेखा जोखा शामिल था| एडीआर की इस रिपोर्ट में भाजपा की आमदनी पहले से कहीं गुना ज्यादा बढती नजर आई|source

इस रिपोर्ट में बीजेपी समेत कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी), मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की आमदनी का भी उल्लेख किया गया है| सभी पार्टियों में से सिर्फ भाजपा की ही आमदनी में बढ़ोत्तरी हुई|

कांग्रेस पार्टी की आमदनी में गिरावट और बीजेपी की आमदनी में बढ़ोत्तरी

सत्ता में आने से पहले बीजेपी समेत कई सन्गठन कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाते रहे है की कांग्रेस चोर है और जनता की कमाई सीधे अपनी जेब में डाल रही है| लेकिन एडीआर की रिपोर्ट देखे तो मामला उल्टा नज़र आएगा| रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा की आमदनी वित्त वर्ष 2015-16 से 2016-17 के बीच 81 प्रतिशत बढ़कर 1,034.27  करोड़ रूपए हो गया है| और वही कांग्रेस की कमाई 14 प्रतिशत घटकर 225.36 करोड़ रूपए हो गयी है|source

पार्टी की कमाई होती हैं इन जरियों से

इस दौरान कांग्रेस ने 321.66 करोड़ रूपए खर्च किया जो उसकी इस दौरान की कुल आय से 96.30 करोड़ रूपए अधिक है| अपनी आय का स्त्रोत चंदा या दान को बताया है, बीजेपी और कांग्रेस ने| रिपोर्ट में आगे कहा गया है की भाजपा ने 2016-17 के दौरान 997.12 करोड़ रूपए चंदा या आर्थिक सहयोग द्वारा कमाए गये बताया है| वही कांग्रेस ने अपनी कमाई का जरिया कूपनो को बताया है जिस दौरान पार्टी ने 115.644 करोड़ रुपये इकठे किये|source

नेशनल दस्तक इस सन्दर्भ में लिखता है,

‘इस दौरान सात राष्ट्रीय पार्टियों ने 2016-17 के दौरान स्वैच्छिक योगदान से 74.98 फीसदी (1,169.07 करोड़ रुपये) धनराशि अर्जित की, जबकि इसके पिछले वित्त वर्ष (2015-16) में स्वैच्छिक योगदान से उनकी आमदनी 60 फीसदी (616.05 करोड़ रुपये) रही थी। इन दलों ने 2016-17 में बैंकों से ब्याज के रूप में 128.60 करोड़ रुपये प्राप्त किए।’

नोट: क्या बीजेपी की बढती आमदनी का सीधा ताल्लुक चंदा या आर्थिक सहयोग से है? या फिर ये कमाई के पीछे कोई और कारण भी है? अपनी राय नीचे कमेंट कर जरुर दें .

Related Posts

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment