≡ Menu

अभी-अभी: अटल बिहारी वाजपयी से जुड़ी इस खबर ने बीजेपी में दौड़ा दी शोक लहर

हाल ही में बीजेपी का 38वा स्थापना दिवस पूरे देश में मनाया गया लेकिन इसके साथ ही साथ बीजेपी कार्यकर्ताओ ने कुछ और भी मना डाला जिससे आज लोग सोशल मीडिया में पार्टी की खिल्ली उड़ा रहे है| बहरहाल पार्टी की स्थापना दिवस मनाने के दौरान पार्टी के वरिष्ठ नेताओ को सम्मान दिया गया जिसमे लालकृष्ण आडवाणी और अटल बिहारी वाजपयी की तस्वीर लगायी गयी|

स्थापना दिवस मानाने के दौरान एक तस्वीर सबके सामने आई है जिसमे बीजेपी के कुछ कार्यकर्ता पार्टी के वरिष्ठ नेता अटल बिहारी वाजपयी को श्रधान्जली देते नज़र आये|

बीजेपी के नेता ने दे दी अटल बिहारी वाजपयी को श्रधान्जली

दरअसल बिहार के बक्सर जिले में एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जो पार्टी में ही विवाद पैदा कर सकती है| इस तस्वीर में साफ़ साफ़ नज़र आ रहा है की कैसे कुछ लोग और बीजेपी के नेता अटल बिहारी वाजपयी की तस्वीर को माला चढ़ा कर श्रधान्जली दे रहे है| कई दिनों से पार्टी के वरिष्ठ नेता अटल बिहारी वाजपयी की तबियत काफी खराब चल रही थी जिसे लेकर सोशल मीडिया में एक झूठी खबर फैलाई गयी थी की उनका निधन हो गया है|source

यह गलती अगर जनता या किसी विपक्षी द्वारा भी करी जाती तो समझ आता है लेकिन पार्टी में होने के बावजूद भी यदि कोई अपने ही नेता को श्रधान्जली दे दे तो बात गले से नही उतरती| क्योकि मामला देश के पूर्व प्रधानमन्त्री का भी है जिसे यू ही नज़रंदाज़ नही किया जा सकता|

कौन है ये नेता जिन्होंने चढ़ाई अटल जी की तस्वीर पर माला?

मीडिया की खबरों के मुताबिक बिहार में बीजेपी की स्थापना दिवस को लेकर कुछ पार्टी कार्यकर्ता इकठ्ठा हुए और इस कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पे शामिल हुए पार्टी के जिलाअध्यक्ष राणा प्रताप सिंह| इस दौरान उन्होंने दीनदयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की तस्वीर पर माला चढ़ाया और उन्हें श्रधान्जली दी|source

देखिये आलोचना से बचने के लिए आरोपी भाजपाई ने क्या कहा

लेकिन हद तो तब हो गयी जबी यही माला अटलजी की तस्वीर में भी पहना दी गयी| कुछ ही समय में यह तस्वीर सोशल मीडिया में वायरल हो गयी| राणा प्रताप सिंह ने कहा कि, ” उन्होंने ये सब जानबूझकर नही किया बल्कि भूलवश हो गया|” उन्होंने आगे कहा की “पार्टी में उनके विरोधी उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहे है.” आपको बता दे की अटल जी मृत्यु को लेकर कई बार झूठी खबरे सोशल मीडिया में वायरल हुई है तो आप भी बिना ऐसी किसी भी खबर की पुष्टि करे उस पर यकीन न करे|

नोट: क्या पार्टी के नेता का अटल जी को श्रधांजलि देते हुए उन्हें जीते जी मार देना सही है? कमेंट कर बताइए इन नेताओं को क्या सज़ा दी जानी चाहिए और इस खबर को भि९ शेयर करे.

Related Posts

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment