≡ Menu

देश के इस गांव में गिलास से नहीं बल्कि पति की इस चीज से महिलाएं पीती हैं पानी, जानकर खून खौल जाएगा

भारत देश में लोगो की आस्था और पूजा हमेशा से ही किसी भी कानून, विज्ञान और लॉजिक से बड़ी रही है जिस कारण कभी कभी इसकी आड़ में पीडितो को अन्याय सहना पड़ता है| बात कर रहे है राजस्थान के एक ऐसे मंदिर के बार में जहा भूत भागने का उपाय किया जाता है| इसके तहत वह की औरोतो को उनके पतियों का जूता दिया जाता है जिससे वे पानी पीती है और नहाती है|source

सुनने में ही ऐसा लगता है की क्या वाकई देश बदल रहा है? अगर सच में बदल रहा है तो इसका असर गाव और कस्बो तक क्यों नही पहुचता| बहरहाल आईये आपको दिखाते है इस रीती रिवाज़ की कुछ अजीबो गरीब तस्वीरे|

राजस्थान के भीलवाड़ा में है ये जगह जहा औरतो से करवाया जाता है ऐसा काम

जिस उपचार की हम ऊपर बात कर रहे थे वह दरअसल राजस्थान के भीलवाडा जिले में किया जाता है जहाँ पर मौजूद है बंकाया देवी का मंदिर| इस मंदिर की प्रसिद्धी आस पास के क्षेत्रो में फ़ैली है जिस कारण लोग यहाँ दूर दूर से भूत बाधा का उपचार करने आते है| इस मंदिर के बारे में कहा जाता है की यहाँ गाओ की महिलाओ को इकठ्ठा किया जाता है और साथ ही आस पास की गाओ की महिलाओ को भी बुला लिया जाता है|

इसके बाद इन्हें इनके पतियों का जूता देकर कुंड में उतार दिया जाता है| कुंड में उतारे जाने के बाद इन्हें इस जूते से पानी पिने को कहा जाता है| कोई भी महिला ऐसा करने से मना नही करती और वो चुपचाप ऐसा करती है| सिर्फ इतना ही नही कभी कभी तो ऐसा भी देखा जाता है की महिलाओ को जूते मार मार कर पूरे गाव में भगाया जाता है| ऐसा करते देख गाव के बड़े बुजुर्ग और बच्चे उनपर हस्ते है|

कितनी ही अजीब बात है की एक तरफ भारत में लोग देवी को पूजते भी है और महिलाओ से ऐसा शर्मनाक काम भी करवाते है| यहाँ पति को तो पूरे देवता होने का दर्जा देता है समाज लेकिन औरत को सिर्फ मूर्तियों में ही पूजेगा|

भारत में तरक्की के बावजूद ये प्रचलन हैं सालों से

ये तस्वीरे बहुत ही विचलित करने वाली है क्योकि इसमें आज भी पिछड़े भारत की तस्वीर नज़र आती है| रीती रिवाजो का सम्मान होना चाहिए लेकिन जो रिवाज़ किसी व्यक्ति को दंड देने के लिए बने हो उनका खंडन कर देना चाहिए|

नोट: दोस्तों क्या इस कुप्रथा का अब बंद हो जाना चाहिए? हमे नीचे कमेंट कर अपनी राय जरुर दें और इस खबर को भी शेयर करे.

Related Posts

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment