≡ Menu

नक्सलियों से लड़ने के लिए गौरक्षकों, बजरंग दल एवं संघ कार्यकर्ताओं को भेजा जाए

छत्तीसगढ़ में सुकमा ज़िले के नक्सली हमले में CRPF के 26 जवान शहीद हो गए और 7 अभी ही लापता हैं | किसी का बेटा, किसी का पति तो किसी के पिता थे ये लोग | /यह जवान अपनी जान पर खेलकर अशांत इलाकों में शान्ति के लिए जाते हैं | क्यों ? इसलिए ताकि हमारे देश पूरे देश में शान्ति बने रहे |

लेकिन देश के अंदर बैठे कुछ देशद्रोही धर्म, जात-पात  के नाम पर समाज में ज़हर घोल रहे हैं | कई गौ-रक्षा के नाम पर, कई संस्कृति के नाम पर, तो कई धर्म के नाम पर एक दुसरे को जान से मारने में लगे पड़े हैं | सिर्फ अपनी-अपनी राजनीती चमकाने के लिए  बेगुनाहो को शिकार बना रहे हैं |

मैं बोलना चाहूंगा उन गौरक्षकों, बजरंग दल, VHP और संघ के कार्यकर्ताओं को कि अपनी ताकत और बहादुरी जा कर उन नक्सलियों, माओवादियों और आतंकवादियों को दिखाओ ना | ये तथाकथित देशभक्त कमज़ोरों और निहत्थों के साथ हिंसा करते हैं वो भी सिर्फ चर्चा में आने के लिए या TV कैमरों पर शक्ल दिखाने के लिए |

gaurakshak rashtravadi

सरकार द्वारा हिंसा के शौक़ीन इन लोगो को भेज देना चाहिए लड़ने के लिए उन नक्सलियों से | शान्ति के दूत हमारे सैनिक क्यों इस तरह कि मौत मरें ?

अगर आप भी इस बात से सहमत हैं तो शेयर कीजिये | ताकि उन सभी असामाजिक तत्वों तक यह बात पहुँच सके |

Related Posts

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment