≡ Menu

ज़मीन पर पड़े नवजात के बारे में जब लोगों ने दीवार से चिपक कर बैठी माँ से पूछा तो कारण जाकर निकल गये आंसू

मध्यप्रदेश से एक कराह देने वाली तस्वीर सामने आई है जिसमे एक प्रसूता ने स्वास्थय केंद्र के सामने ज़मीन पर ही बच्चे को जन्म दिया| इस घटना ने मध्यप्रदेश में सरकारी अस्पतालों की पोल खोल कर रख दी है| यह प्रशासन की बेहद गैर जिम्मेदाराना हरक़त है जिस दौरान महिला या बच्चे की मौत तक हो सकती थी|source

यह शर्मनाक मामला मध्यप्रदेश के अशोक नगर स्थित स्वास्थ्य केंद्र का है जहाँ ताला लगे होने के कारण महिला ने खुले मैदान में ही बच्चे को जन्म दे दिया है|

डॉक्टर न मिलने के कारण बच्चे को जमीन में ही पैदा करना पड़ा

मध्यप्रदेश में स्थित सरकारी अस्पताल बंद होने के कारण एक गर्भवती महिला को कठिनाई का सामना करना पड़ा| जिस वक़्त अस्पताल में उस महिला को लाया गया था उस वक़्त अस्पताल में ताला लगा हुआ था| महिला काफी देर तक अस्पताल कर्मचारियों का इन्तेजार करती रही लेकिन कुछ देर बाद ही उसकी पीड़ा बढ़ गयी|

दर्द इस कदर बढ़ गया था की बच्चे को अस्पताल के पीछे खुले मैदान में ही जन्म देना पड़ा| यह कहानी है अशोकनगर जिले के गाँव कदवाया में रहने वाली महिला विद्या बायीं की जिसे मौके पर कोई सुविधा नही उपलब्ध करवाई गयी| स्वास्थ्य केंद्र में ताला लगा होने के कारण पीड़ित महिला और बच्चा दोनों ही धुल मिटटी में पड़े रहे|

धुल मिट्टी में पड़ा बच्चा करता रहा डॉक्टर के आने का इन्तजार

खुले मैदान में नवजात शिशु करीब एक घंटे तक पड़ा रहा इस दौरान महिला की भी हालत काफी बिगडती गयी| एमपी न्यूज़ ने लिखा है ‘करीब 1 घंटे बाद एक एननएम कार्यकर्ता स्वास्थ्य केंद्र पहुंची जिसने स्वास्थ्य केंद्र का ताला खोला जिसके बाद महिला और नवजात को अंदर ले जाया गया।’source

प्रशासन में मचा हडकम्प

क्योकि इस खबर की सच्ची मीडिया में आ गयी है जिस कारन अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्र वाले घबराए हुए है| कलेक्टर ने मामले की जांच के आदेश दे दिए है और स्वास्थ्य अधिकारियों से मामले की रिपोर्ट मांगी है| मध्यप्रदेश में सरकारी अस्पतालों की हालत दिन ब दिन बत्तर होती जा रही है जिसे कोई और नही बल्कि गरीब और असहाय लोग ही सह रहे है| आमतौर पे पूरा देश सरकारी अस्पतालों के हालात से अवगत है लेकिन इन्हें नज़रअंदाज नही किया जा सकता|

नोट: मध्यप्रदेश भी भगवा रंग में ही रंगा हुआ है| क्या सच में देश बदल रहा है? अगर कभी भी देश के सच्चे हाल के बारे में जानना हो तो सरकारी अस्पतालों में जाकर इसकी सच्ची मिल जाती है| हमे अपनी राय नीचे कमेंट कर जरुर दें और इस खबर को भी शेयर करे.

Related Posts

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment