≡ Menu

जब एक बच्चे ने माँ की फ़रियाद सुनाते हुए मोदी को मारा तमाचा, वीडियो हो गया वायरल

‘विद यू फॉर यू ऑलवेज’ दिल्ली पुलिस का यह स्लोगन विश्वास दिलाता है कि दिल्ली पुलिस सदैव वहां रहने वाले हर नागरिक, हर व्यक्ति या हर पीड़ित के साथ है | मगर नजीब अहमद की मां से पूछें तो यह सरासर गलत है |

जी हाँ वहीँ जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (JNU) का छात्र जो बीते साल अचानक से अपने हॉस्टल से गायब हो गया थाl दिल्ली सरकार (आप पार्टी) के हाथों से बाहर और केन्द्र सरकार (बीजेपी) के हाथों की कठपुतली बन चुकी दिल्ली पुलिस ने नजीब को तलाशती एक दुखयारी मां का न केवल बेटा छीन लिया है बल्कि बरसों से जो उसे दिल्ली पुलिस और मोदी सरकार पर विश्वास था उसे भी तोड़ दिया हैl

जैसा सब जानते है 2014 के चुनावो में नरेंद्र मोदी भावुक होकर चुनाव रैलियों में बड़ा बढ़ चढ़ कर अपने भाषणों में माँ का ज़िक्र करने से पीछे नहीं रहते थे | वहीं मोदी साहब जब आज दिल्ली की सड़कों पर एक माँ रो रही हैं उसकी थकी हुई आखे अपने बेटे नजीब को खोज रही हैं लेकिन क्यों कोई सुध नहीं ले रहे…

इस घटना के बाद इस बात को भी बल मिलता है कि दिल्ली में वही राजनैतिक दल सरकार चल सकता है तो केन्द्र में भी विराजमान होl |दिल्ली सरकार की पूरी कोशिश के बाद भी नजीब को ढूंढने में नाकाम रही दिल्ली पुलिस के कान पर जूं नहीं रेंगी क्योंकि केन्द्र में बैठी मोदी सरकार पर एक मुस्लिम युवक के लापता होने से कोई फर्क नहीं पड़ता और विशेषकर जब भाजपा संरक्षित ABVP पर नजीब की पिटाई कर उसे गायब करने का आरोप हो |

क्या उत्तर प्रदेश को ऐसा ही CM चाहिए था ? देखिये यह वीडियो

नजीब की माँ का दर्द शायद केंद्र में बैठी मोदी सरकार भूल गई हो लेकिन हाल ही में एक छोटे 8 साल के बच्चे को भली-भाँती याद हैl इसी दर्द कि कहानी बया करता इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें एक छोटे बच्चे ने जो पीएम मोदी से कहाँ है अगर उसे मोदी सुन ले तो वो शर्म से मर जायेंगेl

एक माँ के लिए उसका बच्चा खो जाने का मतलब और दर्द न तो प्रधानमंत्री मोदी समझ पाए और न ही केंद्र सरकार कि गुलाम बन चुकी दिल्ली पुलिसl यह हालात तब है जब खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मुस्लिम महिलाओं को उनके हक दिलाने के प्रर्ति प्रतिबद्दता जाहिर कर चुके होंl इस बात में भी कोई दौराय नहीं है कि मोदी सरकार के दौहरे रवैय्ये ने देश में अल्पसंख्यकों के विश्वास को तोड़ने का काम किया हैl

जहां जेएनयू के छात्र नजीब की गुमशुदगी के मामले में चार माह से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी सबसे आधुनिक और तेज तर्रार होने का दावा करने वाली दिल्ली पुलिस नजीब का पता नहीं लगा पायी हैl वहीं देशभर में तमाम विश्वविद्यालयों के छात्र आंदोलन पर है और नजीब की बरामदगी की मांग कर रहे हैं लेकिन गूंगी और बहरी व्यवस्था और केंद्र के सियासी गलियारे पर अभी तक कोई फर्क नहीं पड़ा हैl

लेकिन इस वीडियो में जो इस छोटे से बच्चे ने सत्ता की चमक में गुम हो चुकी केंद्र सरकार और मोदी के तमाम वायदों को याद दिलाते हुए कुछ ही मिनटों में जो बोल दिया उसे अगर प्रधानमंत्री साहब सुन ले तो यक़ीनन वो शर्म और अपनी नाकामियाबियों के चलते मर जायेंगेl आप भी सुनिए और देखें कैसे एक माँ का दर्द केंद्र तक पहुँचाने के लिए इस बच्चे ने जो रास्ता चुना उसे देख आपकी भी आँखे नम हो जाएँगी |

आखिर कितने Tax देंगे हम ? देखिये यह दो मिनट की विडियो

देखें वीडियो:-

ये नजीब को गायब कर देते हैं, और सरकार हाथ पर हाथ रखे बैठी रहती है!इमरान के बाद एक बच्चे की भी आवाज दिल छु जाती है!वीडियो देखें?

Posted by अंध-भक्त मुक्त भारत #ABMB on Thursday, April 13, 2017

‘हमें नजीब चाहिए’, ‘वी वांट जस्टिस’ जैसे नारे और अलग-अलग आंदोलनों कि वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहे हैं लेकिन दुर्भाग्य का विषय यह है कि डिजीटल इंडिया की बात करने वाली मोदी सरकार अभी तक इस ओर गंभीरता से ध्यान नहीं दे पाई है।l नजीब के प्रकरण पर भारतीय मीडिया का भी दोहरा चरित्र देश के सामने आ गया हैl पूंजीपतियों के स्वामित्व वाले मीडिया समूह नजीब के प्रकरण को ब्रेकिंग न्यूज और प्राइम टाइम में लाने से कतरा रहे हैंl कारण चाहे जो भी हो लेकिन शायद नजीब का मुसलमान होना मीडिया और देश की व्यवस्था को खल रहा है। देश के एक बड़े तबके में चर्चाए आम है कि काश! नजीब की मां का दर्द मोदी समझतेl

Related Posts

{ 1 comment… add one }
  • shakil shaikh April 24, 2017, 8:54 am

    Let them enjoy bro. Dnt prroject it now. Its their private life.

Leave a Comment