≡ Menu

कांग्रेस का बह्रमास्त्र बनकर मोदी लहर रोकेंगी प्रियंका गांधी और कांग्रेस की होगी सत्ता वापसी

हालांकि प्रधानमंत्री चुनाव 2019 में होने है लेकिन सारी राजनीति पार्टियों के लिए तो जैसे ये जीयो और मारों की स्तिथि बनती दिख रही हैl जहाँ बीजेपी वापिस केंद्र पाए के लिए हर मुमकिन कोशिश करती दिख रही है तो कांग्रेस जैसे बड़ी पार्टी भी इस बार एड़ी चोटी का जोर आजमाने से पीछे नहीं हटने वाली |

2014 में जैसे बीजेपी ने अपने स्टार कैमपैनर मोदी को बनाया था जिसका उन्हें ख़ासा फ़ायदा भी हुआ था और इस बार भी 2019 में बीजेपी से मोदी ही आगे चल रहे हैl वहीँ विपक्षी पार्टी कांग्रेस 2019 के लिए अपनी अलग रणनीति बनती दिख रही हैl हालांकि वो बीजेपी की तरह हल्ला करती नजर नहीं आ रही लेकिन राजनीतिक विशेषज्ञ इसे भी कांग्रेस की रणनीति ही मान रहे है |

कांग्रेस पार्टी में ये बदलाव रोक सकते हैं मोदी लहर..

जैसे सब जानते है कि 2014 का चुनाव हारने के बाद कांग्रेस को करार झटका लगा लेकिन हाल ही के विधानसभा चुनावों में हालांकि पंजाब के अलावा कांग्रेस और किसी राज्य में अपनी सत्ता बनाने में कामियाब नहीं हुई लेकिन  दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उनमे खोया हुआ आत्मविश्वास जरुर वापिस आ गयाl

अब कांग्रेस की बड़ी विडंबना यह है कि वो कांग्रेस का ऐसा कौनसा चेहरा 2019 में चुनावों में उतारे जो न केवल बीजेपी को बल्कि ख़ास तौर पर मोदी को कड़ी टक्कर दे पाए…

सूत्रों की माने तो इसका फैसला बी ही पार्टी ले चुकी हैl जी हाँ इंदिरा अवतार में कांग्रेस का नेतृत्व  प्रियंका गांधी के हाथों में सौपने की खबरे आ रही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रियंका पहली बार अपने चुनावी शेत्र से बाहर भी पार्टी के लिए प्रचार करेंगीl इसी के साथ उनका ये कदम सक्रिय राजनीति में पहला कदम होगाl हालांकि उनके चुनाव लड़ने पर संशय है। चुनाव रणनीतिकारों का कहना है कि प्रियंका को राजनीति में आना चाहिए। हालांकि वह खुद इससे इनकार करती रही हैं।

क्या रजत शर्मा (India TV) निष्पक्ष पत्रकार हैं ? देखिये यह विडियो

लंबे समय से कांग्रेस के भी अलग-अलग नेता प्रियंका को राजनीति में लाने की मांग करते रहे हैं। गाहे-बगाहे यूपी चुनावों में भी प्रियंका के समर्थन में पोस्‍टर-बैनर सामने आये थे परन्तु जितनी उमीद थी वो यूपी में उतनी सक्रीय नहीं रहीl नतीजास्वरूप कांग्रेस की यूपी में हार हुईl लेकिन 2019 में अगर प्रियंका गांधी राजनीति में आती हैं तो यह कांग्रेस के लिए संजीवनी के साथ ही मास्‍टर स्‍ट्रोक भी साबित होगा। आइए जानते हैं प्रियंका का राजनीति में आना कांग्रेस के लिए कैसे फायदेमंद होगा:

नया चेहरा: प्रियंका गांधी अभी तक यूपी में गाँधी परिवार के चुनावी शेत्र अमेठी और रायबरेली में ही चुनाव प्रचार करती रही हैंl इन दोनों सीटों पर कांग्रेस को जिताने का जिम्‍मा सदैव उन्ही पर होता हैl यहां के अलावा वह और कहीं प्रचार नहीं करती हैंl हालांकि यूपी विधानसभा चुनावों में वो एका-दूका जगह प्रचार करती दिखी लेकिन चेहरा राहुल ही थेl विशेषज्ञों की माने तो अगर वे 2019 में सक्रिय भूमिका में आती हैं तो कांग्रेस को नया चेहरा मिलेगाl इस बात में भी कोई संशेप नहीं है कि सोनिया गांधी बीमार रहती हैं और राहुल गांधी पार्टी कार्यकर्ताओं को प्रेरित नहीं कर पा रहे हैंl ऐसे में कांग्रेस के पास केवल प्रियंका का ही विकल्‍प बचता हैl पार्टी के कई वरिष्‍ठ नेता भी समय-समय पर उनके पक्ष में आवाज उठा चुके हैं |

Video – ‘गाय माता के नाम पर दंगे फैलाना चाहते हैं मोदी-योगी’

कार्यकर्ताओं में जोश: कांग्रेस पार्टी में लंबे समय से प्रियंका गांधी को ही अपना स्टार कैमपैनर बनाने की मांग उठती रही हैl यहां के कार्यकर्ता और नेता कई बार उन्‍हें राजनीति में लाने की मांग कर चुके हैंl अगर उन्‍हें लाया जाता है तो 2019 में मृतप्राय हो चुके कांग्रेस कैडर में फिर से जान आ जाएगीl कांग्रेस वर्कर्स में प्रियंका गांधी को लेकर उत्‍साह भी हैl उनके नाम पर सभी खेमे एकमत हैं और प्रियंका के आने से केंद्र में कांग्रेस के दिन एक बार फिर आ सकते हैंl

इंदिरा की छवि: इस बात में भी कोई दौरे नही है कि प्रियंका में उनकी दादी इंदिरा गांधी की छवि दिखती हैl उनके भाषण देने की शैली भी इंदिरा जैसी ही हैl शायद यही कारण है कि आम जनता कांग्रेस के अन्‍य नेताओं के बजाय प्रियंका के भाषणों से जल्‍दी जुड़ाव महसूस करती हैंl इंदिरा की तरह ही प्रियंका भी समय-समय पर गाँवों में गरीबों के बीच जाती रहती हैंl वहां पर प्रियंका आसानी से उनसे घुलमिल जाती हैl इसी तरह की आदत इंदिरा गांधी की भी थीl

मोदी को चुनौती देने वाला नेता: आम चुनाव और इसके बाद हुए विधानसभा चुनावों से साफ हो चुका है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हमलों का जवाब राहुल गांधी नहीं दे पाते हैंl उनके भाषणों से पार्टी का कार्यकर्ता उत्‍साहित महसूस नहीं कर पा रहा हैl साथ ही पार्टी के बड़े भी राहुल की कार्यशैली पर सवाल उठा चुके हैंl पिछले दिनों पांच राज्‍यों के चुनावों में हार के बाद तो कांग्रेस में सर्जरी की जरूरत की मांग उठी थीl इसके चलते प्रियंका के आने से कांग्रेस को मोदी का मुकाबला करने वाला नया चेहरा मिलेगाl जिस तरह से आम चुनावों में देश की जनता पीएम मोदी के साथ जुड़ गई थीl उसी तरह 2019 के चुनावों में वो ही जनता प्रियंका के साथ जा सकता हैl

महिला होने का फायदा : 2019 के चुनावों में बीजेपी की तरफ से जहाँ भाजपा की बड़ी-बड़ी महिला नेता स्मृति ईरानी और सुषमा स्‍वराज मोदी का साथ देती दिखेगी तो वहीं ऐसे में अगर कांग्रेस प्रियंका के नाम के साथ मैदान में उतरती है तो उसे फायदा ही होगाl प्रियंका युवा चेहरा भी हैं तो युवा वर्ग भी कांग्रेस के पक्ष में आ सकता हैl

आसान नहीं राह: हमेशा से गन्दी राजनीती करने वाली बीजेपी हालांकि प्रियंका के आने से अपना और प्रचंड रूप धारण करने से पीछे नहीं रहेगीl प्रियंका के मैदान में उतरने से रॉबर्ट वाड्रा को लेकर चल रहे मामले में भाजपा के हमले तेज हो सकते हैंl साथ ही यह सवाल भी उठ सकता है कि राहुल गांधी का भविष्‍य क्‍या होगाl प्रियंका के नेतृत्‍व में 2019 में अगर कांग्रेस अच्‍छा प्रदर्शन करती है तो फिर उन्‍हें राष्‍ट्रीय स्‍तर पर लाने की मांग उठने लगेगीl इससे राहुल गांधी के बैकफुट पर जाने का खतरा हो जाएगाl हालांकि कांग्रेस नेता कह रहे हैं कि राहुल गांधी राष्‍ट्रीय नेता हैंl

Related Posts

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment