≡ Menu

चार साल में हुए चुनावों के इन आकड़ों को देख भाजपाई सदमे में आ जाएंगे

बीते चार सालो से बीजेपी कांग्रेस मुक्त भारत का नारा दे रही है और देश भर में इस दावे के साथ विस्तार कर रही है| लेकिन हकीक़त कुछ और ही है| बीजेपी के विधायको की संख्या इस देश में एक-तिहाई से थोड़ी ही ज्यादा है| देश की कुल 4139 विधानसभा सीटो में से 1516 सीटे ही बीजेपी के पास है| इनमे से 950 सीटें सिर्फ उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और कर्णाटक की है|source

तो चलिए जानते है बीजेपी कितना अमल कर पायी है अपने ‘कांग्रेस मुक्त’ नारे पर!

2014 में 9 में से सिर्फ 2 ही राज्यों में अपने दम पर बीजेपी सरकार बना पायीsource

2014 में मोदी लहर के बलबूते सत्ता में आने वाली बीजेपी असेंबली चुनावों में थोड़ी पीछे रह गयी थी| उसी साल जब आंध्र प्रदेश (तेलंगाना समेत), अरुणांचल प्रदेश, हरियाणा, झारखंड, महाराष्ट्र, ओड़िसा, सिक्किम और जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव हुए थे तब भाजपा केवल हिरयाणा और झारखंड में ही पूर्ण बहुमत की सरकार बना पायी थी| बाकी सभी राज्यों में दल बदल और गठबंधन के सहारे सरकार बन सकी|

2015 में दिल्ली में लगा जोर का झटकाsource

साल 2015 की शुरुवात में में जब दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने थे तब भी बीजेपी को करारी हार का सामना करना पड़ा| 70 सीटो वाली दिल्ली में आम आदमी पार्टी को 67 सीटे हासिल हुई| इसके बाद अक्टूबर नवम्बर में मोदी शाह की जोड़ी को बिहार में झटका लगा जब लालू यादव और नितीश कुमार के गठ्बन्धन को पूर्ण बहुमत मिला| हालाँकि बाद में जुलाई आते आते बीजेपी ने वह जोड़ तोड़ कर जेडीयू के साथ गठ्बन्धन कर सरकार बनाई| साल 2016 में असम, पुदुचेरी, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव हुए तो इसमें से किसी में भी भाजपा को पूर्ण बहुमत नही मिला| केवल असम में गठबंधन कर बीजेपी सरकार में आई|

2017 में आया था सरकार बनाने का मौसमsource

यह साल बीजेपी के लिए बहुत शुभ था क्योकि सात राज्यों (गोवा, गुजरात, मणिपुर, पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश) में विधानसभा चुनाव हुए जिनमे से 4 राज्यों (उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गुजरात और हिमाचल प्रदेश) में बीजेपी की पूर्ण बहुमत की सरकार बनी| जबकि गोवा और मणिपुर में अमित शाह की टीम ने तत्परता दिखाते हुए गठबंधन की सरकार बना ली| हालाँकि गोवा और मणिपुर में जिस तरह से सरकार बनी उसे लेकर आज भी पार्टी पे सवाल उठते है|

2018 में सिर्फ एक राज्य में बहुमत की सरकारsource

इस साल मई तक चार राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए- मेघालय, नगालैंड, त्रिपुरा और कर्नाटक| कर्णाटक की तस्वीर तो सबके सामने ही है की कैसे सीटे ज्यादा जीतने के बावजूद बीजेपी सरकार नही बना पाई| त्रिपुरा में बीजीपी पूर्ण बहुमत में है| इसके अलावा मेघालय और नागालैंड में बीजेपी गठ्बन्धन सरकार में साझीदार है|

नोट: दोस्तों क्या उपचुनावों में लगातार हार बीजेपी की 2019 की हार की ओर ईशारा कर रही है? हमे अपनी राय नीचे कमेंट कर जरुर बताएं और इस खबर को भी शेयर करे.

Related Posts

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment