≡ Menu

सोनिया गांधी की वो अनदेखी दुर्लभ तस्वीरे जो आपको 90 के दशक की राजनीति की याद दिला देगी !

शुरुवात से विदेशी होने का दंश झेल रही सोनिया गांधी भारतीय राजनीति का अभिन्न अंग रही है| एक पत्नी, एक माँ, एक बहु और उसके बाद इस देश की नेता के तौर पर उन्होंने बखूबी अपनी जिम्मेदारिय निभाई है| सोनिया गांधी उस वक़्त भारत में आई जब इंदिरा गांधी का कार्यकाल लगभग समाप्त होने लगा था लेकिन राजनीति से असल मुलकात उनकी तब हुई जब वो अपने पति राजीव गांधी का सहारा भी खो चुकी थी|

आज सोनिया गांधी पूरे देश की महिलाओ के लिए प्रेरणा है और सशक्तिकरण का उदहारण भी है तो आईये उनके जीवन से जुड़े कुछ ख़ास पहलु पे नज़र डाले!source

1. सोनिया गांधी का असली नाम सोनिया एंटोनिया मायनों है, शादी के बाद उनका नाम सोनिया गांधी पड़ा था| सोनिया गांधी का जन्म 9 दिसम्बर 1946 को हुआ था| हालाँकि आज सोनिया गांधी रायबरेली, उत्तरप्रदेश से सांसद है|source

2. विदेशी महिला के तौर पर जानने वाली सोनिया गांधी इटली के क्षेत्र में विसेंजा से 20 किलोमीटर दूर एक गाँव लूसियाना में पैदा हुई थी|source

3. सोनिया गांधी के पिता स्टेफ़िनो मायनो एक भूतपूर्व फासिस्ट सिपाही थे जिनका निधन 1983 में हुआ था|source

4. अपनी शिक्षा पूरी करने के दौरान ही सोनिया गांधी राजीव गांधी से मिली थी|

और उनकी पहली मुलाकात प्यार में बदलते हुए शादी का रूप ले लिया था| 1964 में सोनिया कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में बेल शैक्षणिक निधि के भाषा विद्यालय में अंग्रेजी भाषा का अध्ययन करने गयी थी जहाँ वो पहली बार राजीव गाँधी से मिली थी|source

5 1968 में उनका विवाह राजीव गाँधी से हुआ जिसके बाद वो भारत में ही रहने लगी थी|source

6 सोनिया गांधी शादी से पहले हरिवंश राय बच्चन के घर पे ठहरी थी और बाद में हरिवंश राय और तेजी बच्चन ने ही सोनिया का कन्यादान किया था|source

7. 1983 में सोनिया गाँधी ने भारत की नागरिकता ली थी और उसके बाद वो सदा के लिए भारत में रम गयी|source

8. ये बात तो अधिकतर लोग जानते है की जब सोनिया गांधी प्रधानमन्त्री के पोस्ट को अपनाने जा रही थी उस वक़्त विपक्ष यानी बीजेपी ने उनके खिलाफ जनता में नफरत भरनी शुरू कर दी थी| इसके सोनिया ने पीएम पोस्ट से अपना नाम वापस ले लिया था| उनके इस कार्य से प्रभावित शायर मुन्नवर राणा ने उन्हें त्याग की देवी उर्फ़ मदर इंडिया का खिताब दिया था|source

9 विश्व की मशहूर पत्रिका फोर्ब्स ने सोनिया को विश्वभर में सबसे सशक्त महिलाओ की सूची में भी शामिल किया था|source

नोट: दोस्तों क्या सोनिया गाँधी हमेशा से ही विपक्ष को कड़ी चुनौती देती रही है? हमे नीचे कमेंट कर जरुर बताएं और इस खबर को भी शेयर करे.

Related Posts

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment