≡ Menu

कौन है ये शक्स जिसके सामने हो जाती हैं योगी की बोलती बंद, देखते ही छुटने लगते हैं योगी के पसीने

योगी आदित्यनाथ बेहद कड़क मिजाज के राजनेता माने जाते है जिनके आगे कोई ज्यादा बहस करने की हिम्मत नही करता| लेकिन उनका ये कड़क स्वभाव एक आदमी के आगे ढीला पड जाता है और हाथ खुद ब खुद नमस्कार की मुद्रा में आ जाते है| ये हम नही, बल्कि खुद योगी आदित्यनाथ कहते है| लगभग 31 साल से योगी आदित्यनाथ एक शक्स के आगे नतमस्तक होते आये है|

 

बीते दिनों जब योगी आदित्यनाथ कानपूर गये थे तो उन्होंने अपनी एक आदत का खुलासा सबके सामने किया था| योगी ने कहा था की ‘मैं पिछले 31 सालो से एक आदत बदलने का प्रयास कर रहा हु लेकिन नही बदल पा रहा| मैं जब भी अपने गुरु जी को याद करता हु तो हाथ खुद बी खुद जुड़ जाते है|’ अब सवाल यह उठता है की यह कौन से गुरु जी है जिनसे आदित्यनाथ इतने प्रभवित है?source

दरअसल जिन गुरु की बात योगी आदित्यनाथ कर रहे है वो उनके गणित के टीचर है- नागेन्द्र नाथ वाजपेयी| इन्होने योगी को नवी कक्षा में गणित पढाई थी| इसके बाद का कारवां खुद योगी के टीचर ने ही सुना डाला|

कैसे मिले योगी और उनके बचपन के अध्यापक?

नागेंद्र नाथ ने बताया कि वह अपने पैतृक गांव खोजऊपुर रूमा कानपुर में थे। गुरुवार सुबह 10 बजे एक फोन आया। उस व्यक्ति ने परिचय दिया कि मुख्यमंत्री जी का निजी सचिव बोल रहा हूं। कहा कि मुख्यमंत्री आज आपसे सीएसए में मिलना चाहते हैं। यह सुनकर वह आश्चर्य चकित रह गए। इसके बाद जिलाधिकारी ने फोन कर गांव में गाड़ी भेजने की बात कही। मैने उन्हें अपने साधन से पहुंचने की बात कही। वह गांव से बेटे के पास बर्रा स्कूटर से पहुंचे, जहां से बेटे की कार से सीएसए पहुंचे।

कानपुर निवासी नागेंद्र नाथ वाजपेयी ने बताया कि स्कूल में योगी का नाम अजय मोहन विष्ट था। उनमें बचपन से ही संस्कार और अनुशासन कूट -कूट कर भरे थे। वह स्कूल प्रवेश करते ही सभी शिक्षकों का आदर सम्मान करते थे। इसके बाद हमेशा आगे की पहली सीट पर बैठते। पठन-पाठन हो या स्कूल के आयोजन की तैयारी, हमेशा समय से पूर्ण करते। शुरूआत से ही उनकी शैली में अनुशासन दिखता था। स्कूल में योगी फुटबाल और कबड्डी के कुशल खिलाड़ी रहे।

अपने अध्यापक से मुलाकात के दौरान योगी ने पुछा की क्या आपको राज्य में कोई परिवर्तन नज़र आ रहा है? जिस पर नागेन्द्र नाथ ने कहा की शिक्षा के क्षेत्र के बदलाव से ही सारे क्षेत्र में परिवर्तन नज़र आएगा|

योगी के गुरु की बातो से तो लगता है अभी भी उनके शिष्य राज्य के विकास में कही न कही पिछड़ रहे है|

वीडियो:-

नोट: योगी आदित्यनाथ के इस शिष्टाचार के लिए आप लोग उन्हें कितने नंबर देंगे? हमे अपनी राय नीचे कमेंट कर जरुर दें और इस खबर को भी शेयर करे.

Related Posts

{ 0 comments… add one }

Leave a Comment